G20 Summit in India ,Know about G20

0609,2023

भारत मे दिल्ली में G20 का 18वां सम्मेलन होने जा रहा है भारत इसके लिए पुरी तरह तैयार है सुरक्षा के पुख्ते इंतजाम किये गये 9-10 सितबर के बीच यह आयोजित होगा।।नाम से ही स्पष्ट  है कि यह 20 देशों का एक समूह है. साल 1999 में जब एशिया में आर्थिक संकट आया था, तब तमाम देशों के वित्त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक के गवर्नरों ने मिलकर एक फोरम बनाने की सोची, जहाँ पर वैश्विक  आर्थिक और वित्तीय  मुद्दों पर चर्चा की जा सके ।।।इस प्रकार G20 अस्तित्व मे आया 

2007 में पूरी दुनिया पर आर्थिक मंदी का साया मंडरा रहा था. ऐसे में जी20 के लेवल को और ऊपर उठाया गया. इसे वित्त मंत्रियों के लेवल से ऊपर उठाकर हेड ऑफ़ स्टेट के लेवल का बना दिया गया. यानी इस बैठक में अब तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्ष हिस्सा लेंगे.

 

इस तरह से जी20 की पहली बैठक साल 2008 में अमेरिका के वॉशिंगटन में हुई. अब तक इसकी कुल 17 बैठकें हो चुकी हैं. भारत इसकी 18वीं बैठक की मेज़बानी करने जा रहा है.

 इस ग्रुप का फोकस अर्थव्यवस्था से जुड़े मुद्दों पर चर्चा रहता था लेकिन समय के साथ इसमें टिकाऊ विकास, स्वास्थ्य, कृषि, ऊर्जा, पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और भ्रष्टाचार विरोधी जैसे मुद्दे भी जुड़ते चले गये।।

 

जी20 ग्रुप में 
 अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राज़ील, कनाडा, चीन, फ़्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, रिपब्लिक ऑफ़ कोरिया, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्किए, यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका और 20 वां सदस्य यूरोपियन यूनियन शामिल हैं.

इसके अलावा हर साल अध्यक्ष देश, कुछ देशों और संगठनों को मेहमान के तौर पर भी आमंत्रित करता है. जैसे इस बार भारत ने बांग्लादेश, मिस्र, मॉरीशिस, नीदरलैंड्स, नाइजीरिया, ओमान, सिंगापुर, स्पेन और यूएई को बुलाया है. भारत ने इन्हे बुलाकर अपनी वसुधैव कुटुंबकम वाली छबि को दिखाया है वो दिखाना चाहता है कि हम अल्पशील ,अविकसित देशों को भी साथ मे लेना चाहते हैं।।

[इसके अलावा जी20 दो समानांतर ट्रैक पर काम करता है. एक होता है, फाइनेंस ट्रैक, जिसमें सभी देशों के वित्त मंत्री और सेंट्रल बैंक के गवर्नर मिलकर काम करते हैं.दूसरा होता है शेरपा ट्रैक, जिसमें हर देश का एक शेरपा  होता है. शेरपा असल में उन्हें कहा जाता है जो पहाड़ों में किसी भी मिशन को आसान करने का काम करते हैं.

जी 20 के शेरपा भी अपने-अपने देश के प्रमुख का काम आसान करने का ज़िम्मा उठाते हैं. सभी सदस्य देशों के शेरपा, बैठकों के ज़रिए अलग-अलग मुद्दों पर आपसी सहमति बनाने की कोशिश करते हैं.जी20 के संदर्भ में शेरपा उच्च रैंक वाले सरकारी अधिकारी और डिप्लोमेट होते हैं, जो अपने देश के प्रतिनिधि मंडल की मीटिंग और सम्मेलनों की योजना बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं

 

जी 20 के पास दुनिया की 85%  जीडीपी,75% वैश्विक व्यापार , दुनिया की 2/3 आबादी है. ऐसे में इस सम्‍मेलन में लिया गया फ़ैसला दुनिया की इकोनॉमी पर बड़ा असर डाल सकता है.

जी 20 का अगला सम्मेलन ब्राजील में होगा।।

01:22 am | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Current Affairs Weekly in Hindi

Current Affairs ,November

◆54वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) का आयोजन गोवा में किया जा रहा है. इसका उद्घाटन बम्बोलिम के श्यामा प्रसाद मुखर्ज...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Agricultural Revolution of India

Food Revolution ,Green Revolution

स्वतंत्रता के बाद भारत खाद्यान्न के संकट से गुजर रहा था ,भारत एक कृषि प्रधान देश रहा है भारत की बढ़ती आबादी के हिसाब से कृषि उत्पादन नही ...

0

Subscribe to our newsletter