Basic terminology of economic part 4

2011,2023

अर्थव्यवस्था के संबंध में महत्वपूर्ण शब्दावली

दोस्तों भारत की अर्थव्यवस्था में ज्यादातर शब्दों के मिनिंग से प्रश्न पूछा जाता हैयदि आपको शब्द का अर्थ पता है तो आगे के टॉपिक में कोई परेशानी नहीं होगी|

  1. वस्तुएं (Goods)
  2. मुद्रा ( money)
  3. पूँजी उत्पाद अनुपात (capital output ratio)
  4. कर(Tax), शुल्क(Duty) एवं फीस(Fees) में अंतर

आइये एक-एक Terminology को समझते हैजहाँ से सीधे आपके परीक्षा में प्रश्न पूछे जाते रहे है :-

  1. वस्तुएं (Goods) : - वस्तुएं(Goods) वे वस्तुएं है, जिन्हें हम छु सकते है तथा उनका उपभोग करने वाले लोगों के जीवन में किसी प्रकार का लाभ जोड़ती है |

⇒Goods On The Basis Of Income : -

    1. Normal goods : -  ऐसी वस्तुएं जिनके कीमत में कमी आने से मांग बढ़ जाती है | तथा कीमतों में वृद्धि से मांग कम हो जाती है |

अर्थात कीमत एवं वस्तु की मांग में विपरीत संबंध होता है |

                       उपभोक्ता के आय के स्तर पर नार्मल गुड्स –

  • नार्मल गुड्स वह वस्तु है, जिसकी उपभोक्ता की आय में वृद्धि के कारण मांग में वृद्धि होती है तथा उपभोक्ता की आय में कमी से मांग में भी कमी होती है |
  • नार्मल गुड्स में आय और मांग के बीच सकारात्मक संबंध होता है |
  • नार्मल गुड्स के उदाहरणों में भोजन, कपडे, और घरेलू उपकरण शामिल है |
    1. गिफिन वस्तुएं( Giffen goods) : ऐसी वस्तुएं जिनके कीमतों में वृद्धि से मांग में वृद्धि तथा कीमतों में कमी से मांग में कमी हो जाती है |
  • गिफिन वस्तु में कीमत एवं वस्तु की मांग में सकारात्मक संबंध होता है |
  • गिफिन वस्तु की अवधारणा एक कम आय, गैर लक्जरी उत्पाद पर केन्द्रित है |
  • गिफिन वस्तु एक प्रकार की वस्तु है जिसका मूल्य प्रभाव और आय प्रभाव दोनों नकारात्मक है |
  • गिफिन वस्तु के उदहारण में रोटी, चावल , और गेंहू शामिल हो सकते है |
    1. Joint Goods : -  जॉइंट गुड्स का तात्पर्य एक उत्पाद के किमंत में वृद्धि से दुसरे उत्पाद के कीमत में वृद्धि हो जाती है |

जैसे :- पेट्रोलियम की कीमत में वृद्धि से मोबिल आयल के कीमत में वृद्धि होना |

 

    1. White Goods :- इलेक्ट्रोनिक प्रोडक्ट को ही व्हाइट गुड्स कहते है |
  • व्हाइट गुड्स बड़े घरेलू उपकरण जैसे- स्टोव, रेफ्रिजरेटर, फ्रीजर, वाशिंग मशीन, टम्बल ड्रिकर्स, डिशवॉशर और एयर कंडीशनर आदि होते हैं।
  • ये ऐसे विद्युत उपकरण होते हैं जो सामान्यतः सफेद रंग में ही उपलब्ध होते हैं।
  • एक विस्तृत श्रृंखला में विभिन्न रंगों में खरीदने के उपरांत भी इन्हें व्हाइट गुड्स ही कहा जाएगा।
    1. लोचदार गुड्स : -  इसका सामान्य अर्थ है वस्तु के कीमत में परिवर्तन से मांग में परिवर्तन होना |
  • कीमत में वृद्धि से मांग में कमी आना तथा कीमत में कमी से मांग में वृद्धि होना |
  • उदाहरणों में फर्नीचर, मोटर वाहन, इन्जिनीरिंग उत्पाद आदि |
    1. बेलोचदार गुड्स : - इसका सामान्य अर्थ है कि कीमतों में वृद्धि से मांग पर ज्यादा असर न हो |

जैसे – खाद्यान्न वस्तुएं

            ⇒ Budget में शामिल गुड्स निम्न है : -

  1. Public Goods : -  ऐसी सेवाएँ जो सभी को नि: शुल्क मिलती है |
  2. Private Goods : - यहाँ कीमत वसूली जाती है और कीमत चुकाने वाले को सुविधा प्राप्त होती है |
  3. Merit Goods : - समाज के कमजोर वर्ग को प्राप्त सुविधा ही merit goods कहलाती है |

 

 

 

 

 

02:41 am | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Citizenship Amendment Act, 2019

indian polity

नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) 2019 ⇒ इसके माध्यम से नागरिकता अधिनियम, 1955 में संशोधन किया गया। इसके तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Women Reservation Bill 2023

Women Reservation Bill 2023

27 सालो से महिला आरक्षण बिल अटका आ रहा है इस बीच मोदी सरकार ने लोकसभा मे महिला आरक्षण बिल 2023 जिसे नारी शक्ति वंदन विधेयक कहा गया ,पेश किया ...

1

Subscribe to our newsletter