CHHATTISGARH CURRENT AFFAIRS

2301,2024

छत्तीसगढ़ के कृषि  से सम्बंधित करेंट अफेयर्स 

1. न्यूनतम समर्थन मूल्य फसल खरीदी 2023-24

•पंजीकृत किसानो से खरीफ विपणन वर्ष 2023-24 में 21 क्विटल प्रति एकड़, 3100 रू. के मान से धान खरीदी की जाएगी।

•धान खरीदी तिथि – 01 नवम्बर 2023 से 31 जनवरी 2024 तक

•कुल धान खरीदी लक्ष्य  -  130 लाख मी.टन 

•खरीफ वर्ष 2022-23 में 107.52 लाख  मी .टन धान खरीदी की गयी थी |

•प्रति एकड़ धान खरीदी 21 क्विटल (पूर्व निर्धारित मात्रा 20 क्विटल) (खरीफ वर्ष 2022-23 में 15 क्विटल प्रति एकड़)

•कुल धान उपार्जन केन्द्र  - 2739 

•कुल पंजीकृत कृषक - 26.86 लाख (खरीफ वर्ष 2022-23 में  25.93 लाख थी ,जिसमे  0.93 लाख की बढ़ोत्तरी  हुई  )

•कुल पंजीकृत रकबा   -  33. 15 लाख हेक्टेयर है |

• प्रदेश में खरीफ वर्ष 2023-24 से बायोमेट्रिक आधारित धान खरीदी व्यवस्था लागू की गई है।
•खरीफ वर्ष 2022-23 में अधिकतम धान खरीदी - जांजगीर- चांपा तथा न्यूनतम - दंतेवाड़ा जिले से की गयी थी 

•खरीफ वर्ष 2022-23 में  राज्यों में सर्वाधिक धान खरीदी → पहला - पंजाब तथा दूसरा - छत्तीसगढ़ रहा | 

धान  उपार्जन एजेंसी  - राज्य सह‌कारी विपणन संघ ( मार्कफेड )

⇒धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 

फसल एमएसपी 2022-23
 
एमएसपी 2023-24 वृद्धि रूपए
धान सामान्य 2040 रु. 2183 रु. 143 रु.
धान (Grade A) 2060 रु. 2203 रु. 143 रु.

2. खरीफ विपणन वर्ष 2023-24 में मक्का खरीदी

• तिथि - 01 नवम्बर 2023 से 28 फरवरी 2024 तक

•लक्ष्य - 10,000 मी .टन

•प्रति एकड़ मक्का खरीदी - 10 क्विटल

•न्यूनतम समर्थन मूल्य  -  2090 रु. प्रति क्विटल

•मक्का उपार्जन एजेंसी   -  छत्तीसगढ़ स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पोरेशन लिमिटेड

3.नगरी दुबराज चावल को मिला GI टैग

•उत्पादन कहाँ होता है - नगरी विकासखंड (जिला- धमतरी)

•GI टैग उत्पाद - यह छत्तीसगढ़ 7 वां GI टैग उत्पाद व दूसरा GI टैग कृषि उत्पाद है।

•विशेषताएं -   नगरी दुबराज से निकलने वाला चावल बहुत ही सुगंधित है। यह पूर्ण रूप से देशी

किस्म है और इसके दाने छोटे हैं। इसका चावल पकने के बाद खाने में बेहद नरम है।

एक एकड़ में अधिकतम छह क्विंटल तक उपज मिलती है। धान की ऊंचाई कम और 

125 दिन में पकने की अवधि है।

4. छत्तीसगढ़ में रबर की खेती 

•कहाँ किया जायेगा    -  बस्तर जिला में

•किस राज्य के तर्ज पर - केरल के तर्ज पर

•भारतीय रबर मिशन मे छ.ग. से बस्तर जिला शामिल होगा।

•बस्तर, छत्तीसगढ़ का पहला जिला है, जहाँ रबर की खेती जाएगी।

•अनुबंध  -  रबर अनुसंधान संस्थान, कोट्टायम और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के मध्य

•विशेष  -  •प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने रबर की पूर्ति करके रबड़ मिशन की शुरूआत की है इस मिशन के तहत 2026 तक भारत में 5 लाख हेक्टेयर में रबर का प्लांटेशन किया               जाएगा।

•छत्तीसगढ़ में प्रायोगिक तौर पर दो एकड़ पर रबड़ की खेती की जाएगी। 

 •रबर की पेड़ के तने को छीलकर उससे निकलने वाले दूध में केमिकल मिलाकर रबर बनाया जाता है

5.  छत्तीसगढ़ में  मत्स्य (मछली पालन) क्षेत्र : -

•देश में स्थान : - मत्स्य बीज उत्पादन क्षेत्र में  छ.ग. का 5 वां स्थान है तथा मत्स्य उत्पादन क्षेत्र में : 6 वां स्थान है |

•कृषि का दर्जा - छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा वर्ष 2021-22 मत्स्य पालन को कृषि का दर्जा दिया गया।
•पुरस्कृत बेस्ट इनलैंड स्टेट का अवॉर्ड 2022 (राष्ट्रीय स्तर पर)

⇒महत्वपूर्ण तथ्य

• प्रदेश में मछली पालन के लिये 2 लाख हेक्टेयर से अधिक जल क्षेत्र उपलब्ध है।

* मत्स्य बीज उत्पादन के लिये 86 हेचरी, 59 मत्स्य बीज प्रक्षेत्र, 647 हेक्टेयर संवर्धन पोखर उपलब्ध हैं।

* राज्य के 19 सिंचाई जलाशयों एवं दो खदानों में कुल 4021 केज स्थापित किये जा चुके हैं।

* कांकेर जिले के कोयलीबेड़ा विकासखण्ड में मछली पालन की कलस्टर आधारित खेती विकसित हो रही है।

 

12:28 pm | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Engineers Day 2023 ,Why we Celebrate

Engineers day 2023 ,Engineer

15 सितंबर भारत में इंजीनियर्स के योगदान को सम्मानित करने का दिन है इंजीनियर का राष्ट्र निर्माण मे अहम योगदान है ,इस दिन को Engineers Day या अभिय...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Registration of CBSE Board Examination started from 12 september

Cbse ,student ,Exam

CBSE ने 10वीं और 12वीं.बोर्ड परीक्षा देने वालो.के लिए रजिस्ट्रेशन शुरु कर दिया है जो प्राइवेट परीक्षा मे बैठना चाहते है उनके लिए 12 सितंबर से ...

0

Subscribe to our newsletter