New National Award for Science

2309,2023

नये राष्ट्रीय विज्ञान पुरस्कार की स्थापना 

भारत सरकार ने विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के क्षेत्र में नए राष्ट्रीय पुरस्कारों की स्थापना की। इन्हें राष्ट्रीय़ विज्ञान पुरस्कार कहा जाएगा।अब  पहले से विभिन्न विज्ञान विभागों द्वारा दिए जाने वाले लगभग 300 पुरस्कारों को रद्द कर दिया गया है।

national award
पुरस्कार के अंतर्गत अब  4 श्रेणियां होंगी-

(1)विज्ञान रत्न

(2)विज्ञान श्री

(3)विज्ञान युवा-शांति स्वरूप भटनागर 

(4)विज्ञान टीम।


इन पुरस्कारों के लिए नामांकन प्रति वर्ष 14 जनवरी से राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 28 फरवरी के बीच आमंत्रित किए जाएंगे।।इन पुरस्कारों की घोषणा 11 मई को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस पर की जाएगी।पुरस्कार वितरण समारोह प्रति वर्ष राष्ट्रीय अंतरिक्ष दिवस (National space Day)पर  23 अगस्त को आयोजित किया जाएगा।ः

राष्ट्रीय विज्ञान पुरस्कार 13 क्षेत्रों में दिये जाएंगे।
ये 13 क्षेत्र हैं -

(1)भौतिक विज्ञान

(2)रसायन विज्ञान

(3) जैविक विज्ञान

(4)गणित और कंप्यूटर विज्ञान

(5)पृथ्वी विज्ञान

(6)चिकित्सा

(7)इंजीनियरी विज्ञान

(8)कृषि विज्ञान

(9)पर्यावरण विज्ञान

(10)प्रौद्योगिकी और नवाचार

(11)परमाणु ऊर्जा

(12)अंतरिक्ष विज्ञान

(13)प्रौद्योगिकी।

"विदेश में रहने वाले भारतीय समुदायों या समाज को लाभ पहुंचाने वाले असाधारण योगदान वाले भारतीय मूल के लोग भी पुरस्कार के लिए पात्र होंगे। विज्ञान रत्न पुरस्कार विज्ञान और प्रौद्योगिकी के किसी भी क्षेत्र में जीवन भर की उपलब्धियों और योगदान को मान्यता देगा जबकि विज्ञान श्री विशिष्ट योगदान को स्वीकार करेगा। सभी पुरस्कारों में एक प्रशस्ति पत्र और एक पदक होगा।

वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद द्वारा 1958 से सात डोमेन में दिए जाने वाले शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार अब विज्ञान और प्रौद्योगिकी के किसी भी क्षेत्र में असाधारण योगदान के लिए 45 वर्ष की आयु तक के युवा वैज्ञानिकों को 13 श्रेणियों में दिए जाएंगे।

 

विज्ञान टीम  पुरस्कार उस टीम को दिया जाएगा जिसमें तीन या अधिक वैज्ञानिक/शोधकर्ता/नवप्रवर्तक शामिल होंगे जिन्होंने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के किसी भी क्षेत्र में एक टीम में काम करते हुए असाधारण योगदान दिया हो

Published by DeshRaj Agrawal 

10:08 am | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

What is the Mahayana in Buddhism?

Art & culture

महायान ⇒ पहली शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास चौथी बौद्ध परिषद के दौरान उभरा। तथा  बोधिसत्व की अवधारणा पर जोर दिया गया।  महायान...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Is Coaching Necessary to Clear Cgpsc or Upsc

How to prepare for cgpsc,Best coaching In Bilaspur

क्या Cgpsc के लिए कोचिंग जरुरी है? आप  प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे है और दुविधा मे है कि कौन सी कोचिंग करें ,कोचिंग करे या नही ,सेल...

0

Subscribe to our newsletter