Basic terminology of economic part 2

1611,2023

अर्थव्यवस्था के संबंध में महत्वपूर्ण शब्दावली

दोस्तों भारत की अर्थव्यवस्था में ज्यादातर शब्दों के मिनिंग से प्रश्न पूछा जाता है, यदि आपको शब्द का अर्थ पता है तो आगे के टॉपिक में कोई परेशानी नहीं होगी|

  1. आर्थिक प्रगति (economic progress)
  2. समावेशी विकास (inclusive development)
  3. सतत विकास (Sustainable development)
  4. सकल राष्ट्रीय खुशी (GNH)
  5. बाजार (Market)
  6. वस्तुएं (Goods)
  7. मुद्रा ( money)
  8. पूँजी उत्पाद अनुपात (capital output ratio)
  9. कर(Tax), शुल्क(Duty) एवं फीस(Fees) में अंतर

आइये एक-एक Terminology को समझते है, जहाँ से सीधे आपके परीक्षा में प्रश्न पूछे जाते रहे है :-

  1. आर्थिक प्रगति (economic progress) : - आर्थिक प्रगति का अर्थ है लोगों के जीवन स्तर में सुधार। अर्थात आर्थिक विकास के साथ-साथ मूल्यात्मक विकास हो |
  • लोगों और आर्थिक विकास से राष्ट्रीय आय का स्तर बढ़ता है।  लेकिन उच्च स्तर का जीवन तभी संभव है जब राष्ट्रीय स्तर में वृद्धि हो।
  1. समावेशी विकास (inclusive development) : - विकास के मुख्य धारा में सभी को शामिल कर देना अर्थात विकास का लाभ सभी तक पहुंचना| इसके निम्न शर्त हो सकते है :-
          1. GDP में वृद्धि
          2. लाभ का न्यायसंगत वितरण

  ⇒ इसके 2 घटक होते है : -

        1. वित्तीय समावेशन
        2. सामाजिक समावेशन
  1. वित्तीय समावेशन : -  वित्‍तीय समावेशन' एक ऐसा मार्ग है जिस पर सरकारें आम आदमी को अर्थव्‍यवस्‍था के औपचारिक माध्‍यम में शामिल करके उन्हें आगे बढाने का प्रयास करती हैं ताकि यह सुनिश्‍चित किया जा सके कि अंतिम छोर पर खड़ा व्‍यक्‍ति भी आर्थिक विकास के लाभों से वंचित न रहे तथा उसे अर्थव्‍यवस्‍था की मुख्‍यधारा में शामिल किया जाए।

⇒वित्तीय समावेशन का उद्देश्य क्या है?

   वित्तीय समावेशन के उद्देश्य में कह सकते है कि, जिन लोगों तब बैंकिग सेवाएँ उपलब्ध नहीं है वही तक बैंकिग सेवाएँ प्रदान करना । वित्तीय समावेशन से व्यक्ति तथा सरकार एवं बैंकिग क्षेत्र को लाभ मिला है।

⇒वित्तीय समावेशन की दिशा में भारत द्वारा उठाए गए कदम : -

  • भारत में मोबाइल बैंकिंग का विस्तार
  • बैंकिंग कॉरस्पॉन्डेट (BC) योजना
  • प्रधानमंत्री जन धन योजना
  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना
  • वरिष्‍ठ पेंशन बीमा योजना
  1. सामाजिक समावेशन : - समाज के सभी वर्गों के लोगों के जीवन की गुणवत्ता सुधारने और उन्हें अवसरों की समानता उपलब्ध कराने की बात कही गई I
  • इस योजना में गरीबी, स्वास्थ्य, शिक्षा तथा आजीविका के अवसर प्रदान करने पर विशेष ज़ोर दिया गया ताकि योजना में निर्धारित 8 प्रतिशत की विकास दर को हासिल किया जा सकेI
  • सरकार द्वारा समावेशी विकास की स्थिति प्राप्त करने के लिये कई योजनाओं की शुरुआत की गई I इनमें शामिल है- दीनदयाल अंत्योदय योजना, समेकित बाल विकास कार्यक्रम, मिड-डे मील, मनरेगा, सर्व शिक्षा अभियान इत्यादिI
  1. सतत विकास (Sustainable development) : -  सतत विकास का अर्थ है आर्थिक विकास के साथ-साथ पर्यावरण को सुरक्षित करना। अर्थात पर्यावरण का संरक्षण करते हुए विकास |

      

       

GDP में वृद्धि + पर्यावरण का संरक्षण

इसका उद्देश्य वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों के लिए प्राकृतिक संसाधन सुरक्षित रखना है।

⇒सतत विकास का उद्देश्य: -

  • पृथ्वी के प्राकृतिक संसाधनों को दुरुपयोग से बचाना
  • ऐसी नई वैज्ञानिक तकनीक की खोज हो जो प्रकृति के नियमों के अनुरूप कार्य करें- विविधता की रक्षा करना तथा विकास की नीतियों में स्थानीय समुदायों को शामिल करना |
  • शासन की संस्थाओं का विकेंद्रीकरण करना और उन्हें अधिक लचीला पारदर्शी तथा जनता के प्रति उत्तरदाई बनाना |
  • विश्व के सभी राष्ट्रों में शांतिपूर्ण सह अस्तित्व को बढ़ाना क्योंकि केवल शांति ही मानवता के व्यापक हितों की रक्षा सुनिश्चित कर सकती है।

  ⇒सतत विकास की अवधारणा का प्रारंभ वर्ष 1962 में राचेल कार्सन की पुस्तक " साइलेंट स्प्रिंगतथा वर्ष 1968 में पुस्तक "द पॉपुलेशन बमसे हुआ ।

  • लेकिन इस शब्द का वास्तविक रूप से विकास वर्ष 1987 में व्रंटलैंड आयोग की रिपोर्ट "हमारा सजा भविष्य" के प्रकाशन के साथ हुआ।
  • सतत विकास संसाधनों के उपयोग का एक आदर्श मॉडल है जो यह बताता है कि आर्थिक विकास के साथ-साथ पर्यावरण को भी सुरक्षित रखना है।
  • इसका उद्देश्य है वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों के लिए प्राकृतिक संसाधनों को सुरक्षित रखते हुए उसका प्रयोग करना|
  1. सकल राष्ट्रीय खुशी (GNH) : - भूटान ने 1970 के दशक की शुरुआत में विकास की एक नई अवधारणा विकसित की है- सकल राष्ट्रीय खुशी( Gross National Happiness)

 

GNH =  GDP में वृद्धि + पर्यावरण का संरक्षण + संस्कृति का संरक्षण

⇒UNDP द्वारा प्रस्तावित मानव विकास के विचार को खारिज किए बिना, राज्य आधिकारिक तौर पर GNH द्वारा निर्धारित लक्ष्यों का पालन कर रहा है। भूटान 1972 से GNH का अनुसरण कर रहा है।

⇒जिसमें सुख/ विकास प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित पैरामीटर हैं : -

  • उच्च वास्तविक प्रति व्यक्ति आय।
  •  सुशासन।
  • पर्यावरण संरक्षण |
  • सांस्कृतिक संवर्धन (अर्थात जीवन में नैतिक और आध्यात्मिक मूल्यों का समावेश जिसके बिना, प्रगति आशीर्वाद के बजाय अभिशाप बन सकती है) ।

 

 

 

 

 

     

 

 

 

 

01:40 am | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Hamun Cyclone Hits Eastern Coast

Cyclone ,Hamun

2023  अक्टूबर माह में   बंगाल की खाड़ी में एक और चक्रवा की उत्पत्ति हुई है यह बांग्लादेश के तट से टकराया।।इस चक्रवात को   हामून (Hamun ...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

सब्र का फल मीठा होता है

Motivation Mahatma Buddha

सब्र का फल मीठा होता  है एक समय की बात है जब महात्मा बुद्ध विश्व भर में भ्रमण करते हुए बौद्ध धर्म का प्रचार कर रहे थे और लोगों को ज्ञा...

0

Subscribe to our newsletter