NISAR Satelite ,Know Everything about this

1711,2023

पृथ्वी अवलोकन उपग्रह निसार (NISAR)ने  13 नवंबर को 21 दिनों तक चले परीक्षण को पास कर लिया है।।, जो अत्यधिक तापमान और अंतरिक्ष के निर्वात में इसके प्रदर्शन का परीक्षण करने के लिए किया गया था।

इसरो और नासा द्वारा संयुक्त रूप से विकसित निसार ने बेंगलुरु में इसरो के सैटेलाइट इंटीग्रेशन एंड टेस्ट एस्टैब्लिशमेंट (SITE) यूनिट में आयोजित थर्मल वैक्यूम परीक्षण में कठोर, अंतरिक्ष जैसे वातावरण में अपने प्रदर्शन को सफलतापूर्वक प्रदर्शित किया

नासा-इसरो सिंथेटिक एपर्चर रडार (NISAR), आंशिक रूप से सोने के रंग के थर्मल कंबल से ढका हुआ, 19 अक्टूबर को एक निर्वात कक्ष में प्रवेश किया। इसके बाद, इसे -10 डिग्री सेल्सियस पर 80 घंटे के "ठंडे सोख" के अधीन किया गया।
यह परीक्षण इसलिए किया गया क्योंकि प्रक्षेपण के बाद उपग्रह कक्षा में सूर्य के प्रकाश और अंधेरे के संपर्क में आएगा।


निसार  को अब सौर पैनलों और 12 मीटर के रडार एंटीना रिफ्लेक्टर से सुसज्जित किया जाएगा जो एक स्नेयर ड्रम जैसा दिखता है और 30-फुट (9-मीटर) के उछाल के अंत में अंतरिक्ष में खुल जाएगा।

निसार सैटेलाइट क्या है:::::------

निसार एक पृथ्वी-अवलोकन उपग्रह है जिससे दिन में कम से कम चार बार पृथ्वी की भूमि और बर्फ को स्कैन करने की उम्मीद है। यह पृथ्वी की सतह की छोटी सी हलचल पर भी नजर रखेगा ।

यह भूकंप, भूस्खलन और ज्वालामुखी गतिविधि से होने वाली गतिविधियों का निरीक्षण करने और जंगलों, आर्द्रभूमि और कृषि भूमि में गतिशील परिवर्तनों को ट्रैक करने में भी सक्षम होगा।

नासा और इसरो ने 2014 में एक विज्ञान उपकरण के रूप में रडार की क्षमता के एक शक्तिशाली प्रदर्शन के रूप में निसार की कल्पना की थी।।निसार नासा और इसरो द्वारा संयुक्त रूप से विकसित लो अर्थ ऑर्बिट वेधशाला है।

निसार में एल और एस डुअल-बैंड सिंथेटिक एपर्चर रडार (एसएआर) है, जो स्वीप एसएआर तकनीक के साथ काम करता है ताकि उच्च-रिज़ॉल्यूशन डेटा के साथ बड़ी पट्टी प्राप्त की जा सके। एकीकृत रडार उपकरण संरचना (आईआरआईएस) और अंतरिक्ष यान बस पर लगाए गए एसएआर पेलोड को एक साथ वेधशाला कहा जाता है।

 

इस प्रमुख साझेदारी में दोनों एजेंसियों का प्रमुख योगदान होगा। नासा एल-बैंड एसएआर पेलोड प्रणाली प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है जिसमें इसरो ने एस-बैंड एसएआर पेलोड की आपूर्ति की है और ये दोनों एसएआर प्रणालियां बड़े आकार (लगभग 12 मीटर व्यास) के सामान्य अनफरल सक्षम रिफ्लेक्टर एंटीना का उपयोग करेंगी । 

इसके अलावा, नासा मिशन के लिए इंजीनियरिंग पेलोड प्रदान करेगा, जिसमें एक पेलोड डेटा सबसिस्टम, हाई-रेट साइंस डाउनलिंक सिस्टम, जीपीएस रिसीवर और एक सॉलिड स्टेट रिकॉर्डर शामिल है।

निसार का उपयोग इसरो द्वारा कृषि मानचित्रण और भूस्खलन-प्रवण क्षेत्रों सहित विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाएगा।
निसार पृथ्वी की सतह के परिवर्तन, प्राकृतिक खतरों और पारिस्थितिकी तंत्र की गड़बड़ी के बारे में डेटा और जानकारी का खजाना प्रदान करेगा, जिससे पृथ्वी प्रणाली प्रक्रियाओं और जलवायु परिवर्तन की हमारी समझ को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।


उपग्रह को 2024 में आंध्र प्रदेश के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय कक्षा में लॉन्च किए जाने की उम्मीद है। उपग्रह कम से कम तीन साल तक काम करेगा। यह एक लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) वेधशाला है। निसार 12 दिनों में पूरे विश्व का नक्शा तैयार करेगा।

~DeshRaj Agrawal 

07:57 am | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Indias stand in Israel hamas war

Israel hamas war

इजरायल हमास युद्ध को रोकने की बहुत कोशिश की गई लेकिन युद्ध रुकता नही दिख रहा है दोनो तरफ से हमले किए जा रहे हैं हजारों जाने जा चुकी है व...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

CLASSIFICATION OF CONSTITUTION PART 2

feature of constitution

                संविधानों का वर्गीकरण ⇒दोस्तों हम विभिन्न देशों के विभिन्न – विभिन्न संविधानों को अलग – अलग आधार पर वर्गी...

0

Subscribe to our newsletter