Major Dhyanchand Jayanti ,Magician of Hockey

2908,2023

Major Dhyachand jayanti 2023

29 अगस्त 1905 को जन्मे मेजर ध्यानचंद भारतीय खेलों के इतिहास में सिर्फ एक नाम नहीं थे; वह एक किंवदंती, एक प्रतीक और फील्ड हॉकी की दुनिया में अद्वितीय उत्कृष्टता के प्रतीक थे।

उनके असाधारण कौशल, खेल कौशल और खेल के प्रति समर्पण ने उन्हें "द विजार्ड" की उपाधि दिलाई और खेल की दुनिया पर एक अमिट छाप छोड़ी।

 

उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों का सम्मान करने और उनकी विरासत को जीवित रखने के लिए हर साल उनकी जयंती पर मेजर ध्यानचंद जयंती मनाई जाती है।  साथ ही इस दिन को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है।  

मेजर ध्यानचंद का प्रारंभिक जीवन

                                                                                       major dhyan chand

मेजर ध्यानचंद का प्रारंभिक जीवन

मेजर ध्यानचंद, जिनका मूल नाम ध्यान सिंह था, का जन्म भारत के इलाहाबाद में एक सैन्य पृष्ठभूमि वाले परिवार में हुआ था। छोटी उम्र से ही, उन्होंने खेलों के प्रति अपनी स्वाभाविक प्रतिभा प्रदर्शित की, जिसके कारण अंततः उन्हें अपने स्कूल के वर्षों के दौरान हॉकी के प्रति अपने जुनून का पता चला।

दुनिया को कम ही पता था कि यह युवा लड़का भारत के इतिहास में सबसे महान खिलाड़ियों में से एक बन जाएगा।

ध्यान सिंह के मेजर ध्यानचंद बनने तक का सफर उनके समर्पण और हॉकी के खेल के प्रति बेजोड़ जुनून से भरा था। भारतीय सेना के एक सदस्य के रूप में, उन्हें "मेजर" की उपाधि दी गई और मैदान पर उनके अविश्वसनीय प्रदर्शन के कारण "ध्यान चंद" का नाम भी शामिल हुआ,

जिसका अर्थ है "समझ का प्रकाश।" यह नाम उनके असाधारण कौशल और खेल की गहरी समझ से हॉकी के मैदान को रोशन करने की उनकी क्षमता का एक आदर्श प्रतिबिंब था। हॉकी स्टिक पर मेजर ध्यानचंद की महारत देखने लायक थी। उनका गेंद पर त्रुटिहीन नियंत्रण, बिजली जैसी त्वरित प्रतिक्रिया और अद्वितीय गोल स्कोरिंग क्षमता उन्हें अपने समकालीनों से अलग करती है।

गेंद को ऐसे हेरफेर करने की उनकी असाधारण क्षमता जैसे कि यह उनके शरीर का विस्तार हो, इसने उन्हें "द विजार्ड" उपनाम दिया। उनका ड्रिब्लिंग कौशल इतना अद्भुत था कि वे अक्सर विरोधियों को स्तब्ध और दर्शकों को आश्चर्यचकित कर देते थे।

उनके करियर के सबसे प्रतिष्ठित क्षणों में से एक 1936 के बर्लिन ओलंपिक के दौरान था, जहां उन्होंने भारतीय हॉकी टीम को जीत दिलाई और फील्ड हॉकी में भारत के लिए पहला स्वर्ण पदक हासिल किया।

टूर्नामेंट के दौरान ध्यानचंद की उल्लेखनीय गोल स्कोरिंग क्षमता पूरे प्रदर्शन पर थी क्योंकि उन्होंने आश्चर्यजनक रूप से 12 गोल किए, जिससे दुनिया के सबसे महान हॉकी खिलाड़ियों में से एक के रूप में उनकी स्थिति और मजबूत हो गई। उनका प्रभुत्व ओलंपिक से आगे तक बढ़ा। उन्होंने 1928 के एम्स्टर्डम ओलंपिक और 1932 के लॉस एंजिल्स ओलंपिक में भी भारत की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई,

जहां भारत ने एक बार फिर स्वर्ण पदक हासिल किए। इन जीतों ने न केवल भारतीय हॉकी को अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाई बल्कि ध्यानचंद को सर्वकालिक महान हॉकी खिलाड़ियों में से एक के रूप में स्थापित किया।

उन्होंने भारत में फील्ड हॉकी को लोकप्रिय बनाने और युवा खिलाड़ियों की पीढ़ियों को इस खेल को अपनाने के लिए प्रेरित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके समर्पण, विनम्रता और खेल कौशल ने महत्वाकांक्षी एथलीटों के लिए एक चमकदार उदाहरण के रूप में काम किया, उन्हें अनुशासन, कड़ी मेहनत और निष्पक्ष खेल के मूल्यों को सिखाया।

अपनी असंख्य प्रशंसाओं और वैश्विक मान्यता के बावजूद, ध्यानचंद एक विनम्र और जमीन से जुड़े व्यक्ति बने रहे। खेल और अपने साथियों के प्रति उनकी प्रतिबद्धता अटूट थी, वे हमेशा व्यक्तिगत गौरव से अधिक टीम की सफलता को प्राथमिकता देते थे।

उनके चरित्र के इस पहलू ने खेल समुदाय पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा है और आज भी एथलीटों को प्रेरित करता है।

मेजर ध्यानचंद जयंती, हर साल 29 अगस्त को मनाई जाती है, जो भारतीय खेलों में हॉकी के दिग्गज के उल्लेखनीय योगदान के लिए एक श्रद्धांजलि है। यह दिन उनकी उपलब्धियों को याद करने, उनकी यात्रा पर विचार करने और उनकी विरासत को संरक्षित करने के लिए हमारी प्रतिबद्धता की पुष्टि करने का अवसर है।

इस उत्सव में हॉकी को बढ़ावा देने और युवाओं के बीच खेल भावना को बढ़ावा देने के उद्देश्य से विभिन्न कार्यक्रम और गतिविधियाँ शामिल हैं। देश भर के स्कूल, कॉलेज और खेल संस्थान ध्यानचंद की स्मृति का सम्मान करने के लिए विशेष कार्यक्रम आयोजित करते हैं।

इन आयोजनों में अक्सर प्रदर्शनियाँ, टूर्नामेंट और सेमिनार शामिल होते हैं जो उनके जीवन और उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हैं। ऐसा करके, हम न केवल उनकी विरासत को श्रद्धांजलि देते हैं बल्कि युवा पीढ़ी को व्यक्तिगत विकास और राष्ट्रीय गौरव के साधन के रूप में खेल को अपनाने के लिए प्रेरित करते हैं

समकालीन युग में, जहां खेल वैश्विक संस्कृति और पहचान का एक अभिन्न अंग बन गए हैं, मेजर ध्यानचंद की विरासत बहुत महत्व रखती है। उनकी कहानी हमें महानता हासिल करने में समर्पण, दृढ़ संकल्प और अनुशासन की शक्ति की याद दिलाती है।

जैसे-जैसे भारत अंतर्राष्ट्रीय मंच पर एक खेल महाशक्ति बनने का प्रयास कर रहा है, ध्यानचंद के सिद्धांत - टीम वर्क, दृढ़ता और खेल कौशल - हमेशा की तरह प्रासंगिक बने हुए हैं।

DeshRaj Agrawal 

12:03 pm | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Nobel prize on Chemistry 2023

रसायन नोबेल 2023

स्वीडिश अकेडेमी ऑफ साइंसेस ने चिकित्सा, भौतिकी के बाद रसायन के क्षेत्र मे नोबेल पुरस्कारों की घोषणा कर दी है इसके अनुसार 2023 का.रसायन न...

1
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Naming of chhattisgarh ,How Chhattisgarh got its name

cg history

        छत्तीसगढ़ का नामकरण ⇒ छत्तीसगढ़ के नामकरण का इतिहास जितना प्राचीन है, उतना ही प्रशस्त है। छत्तीसगढ़ अर्थात् 36 गढ़ों (किल...

0

Subscribe to our newsletter