Why we Celebrate Teachers day ,Teachers Day

0509,2023

शिक्षक दिवस 

शिक्षक दिवस एक ऐसा दिन होता है जब हम अपने उन सभी शिक्षकों का सम्मान करते हैं जिन्होंने हमें ज्ञान और शिक्षा प्रदान की है। यह दिन भारतीय शिक्षा प्रणाली में शिक्षकों के महत्व को याद करने के लिए मनाया जाता है और छात्र अपने शिक्षकों का आभार व्यक्त करते हैं। इस दिन स्कूलों और कॉलेजों में विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिनमें छात्र अपने शिक्षकों को उनकी मेहनत और संघर्ष का सम्मान करते हैं।

शिक्षक दिवस का मनाया जाना उन शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए है जिन्होंने समाज के उद्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। शिक्षक हमारे जीवन में ज्ञान और अध्ययन का मार्ग दिखाते हैं और हमें बेहतर नागरिक बनाने में मदद करते हैं।इसके अलावा, यह दिन शिक्षा के महत्व को बढ़ावा देने और शिक्षा के क्षेत्र में सुधार को प्रोत्साहित करने का भी एक माध्यम है

सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारतीय दर्शनिक, शिक्षाशास्त्री, और राजनीतिज्ञ थे। उनका जन्म 5 सितंबर 1888 को हुआ था, 1952-62 तक  भारत के उपराष्ट्रपति बनने के बाद भारत के 1962-67 तक  दूसरे राष्ट्रपति भी रहे। 1954 मे इन्हे भारत रत्न से सम्मानित किया गया।।इनका योगदान भारतीय संस्कृति और शिक्षा के विकास में महत्वपूर्ण था।1962 मे 5 सितंबर को कुछ छात्रों ने जब उस दिन को विशेष दिवस मनाने का आग्रह किया तब राधाकृष्णन ने इसे शिक्षकों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए शिक्षक दिवस के रुप मे मनाने का निर्णय लिया

उन्होंने दर्शनशास्त्र के क्षेत्र में अपना विशेष योगदान दिया और विश्वभर में भारतीय दर्शन और संस्कृति को प्राचीन और आधुनिक दर्शनिक दृष्टिकोण से प्रस्तुत किया। राधाकृष्णन की प्रमुख रचनाएँ "द फिलॉसफी ऑफ लाइफ," "कंटेम्पोररी फिलॉसफी में धर्म का राज," और "एन आइडियलिस्ट व्यू ऑफ लाइफ" जैसी हैं।

सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक विचारशील, विद्वान, और शिक्षा के प्रशंसक थे, जिनके विचार और योगदान ने भारतीय समाज और शिक्षा को सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनका नाम आज भी शिक्षा के क्षेत्र में स्मृति और सम्मान से याद किया जाता है।1975 मे इन्होने अंतिम सांस ली।।

02:16 am | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Major Bhakti Saints

Art & culture

प्रमुख भक्ति संत 1. चैतन्य महाप्रभु : - वह बंगाल के सबसे लोकप्रिय भक्ति सुधारक थे तथा वे केशव भारती के शिष्य थे।  उन्हें गौरांग ...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Are Hindus becoming a minority in their own country?

current affairs

क्या अपने ही देश में अल्पसंख्यक हो रहे हैं हिंदू ? ⇒प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (PM-EAC) द्वारा किए गए एक नए अध्ययन में प्रस्तु...

0

Subscribe to our newsletter