Hartalika teej ,Katha why it is called

1809,2023

हरतालिका  तीज का त्योहार छत्तीसगढ़ ,बिहार जैसे राज्यों मे मनाया जाता है यह महिलाओं का त्यौहार है, यह पर्व हर वर्ष भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष तृतीया तिथि को मनाते हैं। इस व्रत के करने से भगवान शिव और माता पार्वती का आशीर्वाद प्राप्त होता है। हरतालिका तीज का पर्व भगवान शिव और माता पार्वती के अटूट रिश्तो को ध्यान में रखकर किया जाता है। इस दिन महिलाएं 16 श्रृंगार करके पूजा अर्चना करती हैं और अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद प्राप्त करती हैं।

 हरतालिका तीज सुबह से बिना कुछ खाए व पिए  दिनभर निर्जला व्रत रखा जाता है. इस पर्व को लेकर मान्यता है कि भगवान शिव को पति के रूप में पाने के  लिए मां पार्वती ने कठोर तपस्या की थी. तभी से हर वर्ष यह हरतालिका तीज का व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु और सौभाग्य के लिए रखती हैं. इस पर्व के दौरान सुहागन महिलाएं सुहाग की सभी चीजों को मां पार्वती को अर्पित करती हैं.इसमें मां पार्वती को सुहाग की सभी चीजें  अर्पित करती हैं.

 इस दिन सुहागिन महिलाएं भगवान शिव, माता पार्वती और उनके पूरे परिवार की मिट्टी की मूर्तियां बनाकर घर में मंदिर में स्थापित करते हैं। माता का श्रृंगार किया जाता है। महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं, हाथों पर मेहंदी रचाती हैं और रात में माता गौरी की पूजा करती हैं। सुहागिनों के साथ ही कुंवारी लड़कियां भी इस दिन उपवास करती हैं

इस त्यौहार के पीछे लोककथा प्रचलित है जिसके अनुसार

कैलाश पर्वत के सुंदर शिखर पर माता पार्वतीजी ने महादेवजी से पूछा- 

नाथ! यदि आप मुझसे प्रसन्न हैं तो आप मुझे दर्शन दें। हे जगत नाथ! आप आदि, मध्य और अंत रहित हैं, आपकी माया का कोई पार नहीं है। आपको मैंने किस भांति प्राप्त किया है? कौन से व्रत, तप या दान के पुण्य फल से आप मुझको वर रूप में मिले?

महादेवजी बोले- हे देवी! मैं आपके सामने उस व्रत के बारे में कहता हूं, जो परम गुप्त है, जैसे तारागणों में चंद्रमा और ग्रहों में सूर्य, वर्णों में ब्राह्मण, देवताओं में गंगा, पुराणों में महाभारत, वेदों में साम और इंद्रियों में मन श्रेष्ठ है। वैसे ही पुराण और वेद सबमें इसका वर्णन आया है। जिसके प्रभाव से तुमको मेरा आधा आसन प्राप्त हुआ है। हे प्रिये! उसी का मैं तुमसे वर्णन करता हूं, सुनो- भाद्रपद (भादों) मास के शुक्ल पक्ष की हस्त नक्षत्र के दिन इस व्रत का अनुष्ठान मात्र करने से सभी पापा का नाश हो जाता है। तुमने पहले हिमालय पर्वत पर इसी महान व्रत को किया था, जो मैं तुम्हें सुनाता हूँ।

पार्वतीजी बोलीं- हे प्रभु, इस व्रत को मैंने किसलिए किया था, यह मुझे सुनने की इच्छा है सो, कृपा करके कहें। शंकरजी बोले- आर्यावर्त में हिमालय नामक एक महान पर्वत है, जहां अनेक प्रकार की भूमि अनेक प्रकार के वृक्षों से सुशोभित है, जो सदैव बर्फ से ढके हुए तथा गंगा की कल-कल ध्वनि से शब्दायमान रहता है। हे पार्वतीजी! तुमने बाल्यकाल में उसी स्थान पर परम तप किया था और बारह वर्ष तक के महीने में जल में रहकर तथा बैशाख मास में अग्नि में प्रवेश करके तप किया।

सावन के महीने में बाहर खुले में निवास कर अन्न त्याग कर तप करती रहीं। तुम्हारे उस कष्ट को देखकर तुम्हारे पिता को बड़ी चिंता हुई। चिंता में वह सोचने लगे कि मैं इस कन्या का विवाह किससे करूं। एक दिन नारादजी वहां आए और देवर्षि नारद ने तुम शैलपुत्री को देखा।
तुम्हारे पिता हिमालय ने देवर्षि को अर्घ्य, पाद्य, आसन देकर सम्मान सहित बिठाया और कहा हे मुनीश्वर! आपने यहां तक आने का कष्ट कैसे किया, कहें क्या आज्ञा है?

नारदजी बोले- हे गिरिराज! मैं विष्णु भगवान का भेजा हुआ यहां आया हू। तुम मेरी बात सुनो। आप अपनी कन्या को उत्तम वर को दान करें। ब्रह्मा, इंद्र, शिव आदि देवताओं में विष्णु भगवान के समान कोई भी उत्तम नहीं है। इसलिए मेरे मत से आप अपनी कन्या का दान भगवान विष्णु को ही दें।

हिमालय बोले- यदि भगवान वासुदेव स्वयं ही कन्या को ग्रहण करना चाहते हैं और इस कार्य के लिए ही आपका आगमन हुआ है तो वह मेरे लिए गौरव की बात है।

मैं अवश्य उन्हें ही दूंगा। हिमालय का यह आश्वासन सुनते ही देवर्षि नारदजी आकाश में अन्तर्धान हो गए और भगवान विष्णु के पास पहुंचे। नारदजी ने हाथ जोड़कर भगवान विष्णु से कहा, प्रभु! आपका विवाह कार्य निश्चित हो गया है। इधर हिमालय ने पार्वतीजी से प्रसन्नता पूर्वक कहा- हे पुत्री मैंने तुमको गरुड़ध्वज भगवान विष्णु को अर्पण कर दिया है।

 पिता के इन वाक्यों को सुनते ही पार्वतीजी अपनी सहेली के घर गईं और पृथ्वी पर गिरकर अत्यंत दुखित होकर विलाप करने लगीं। उनको विलाप करते हुए देखकर सखी बोली- हे देवी! तुम किस कारण से दुखी हो, मुझे बताओ। मैं अवश्य ही तुम्हारी इच्छा पूरी करुंगी। पार्वती बोली- हे सखी! सुन, मेरी जो मन की अभिलाषा है, सुनाती हूं। मैं महादेवजी को वरण करना चाहती हूं, मेरे इस कार्य को पिताजी ने बिगाड़ना चाहा है। इसलिये मैं निसंदेह इस शरीर का त्याग करुंगी। पार्वती के इन वचनों को सुनकर सखी ने कहा- हे देवी! जिस वन को तुम्हारे पिताजी ने न देखा हो तुम वहां चली जाओ।

तब देवी पार्वती! अपनी सखी का यह वचन सुन ऐसे ही वन को चली गई। पिता हिमालय ने तुमको घर पर न पाकर सोचा कि मेरी पुत्री को कोई देव, दानव अथवा किन्नर हरण करके ले गया है। मैंने नारद जी को वचन दिया था कि मैं पुत्री का भगवान विष्णु के साथ वरण करूंगा हाय, अब यह कैसे पूरा होगा? ऐसा सोचकर वे बहुत चिंतातुर हो मूर्छित हो गए। तब सब लोग हाहाकार करते हुए दौड़े और मूर्छा दूर होने पर गिरिराज से बोले कि हमें आप अपनी मूर्छा का कारण बताओ।

हिमालय बोले- मेरे दुख का कारण यह है कि मेरी रत्नरूपी कन्या को कोई हरण कर ले गया या सर्प ने काट लिया या किसी सिंह ने मार डाला। वह ने जाने कहां चली गई या उसे किसी राक्षस ने मार डाला है। इस प्रकार कहकर गिरिराज दुखित होकर ऐसे कांपने लगे जैसे तीव्र वायु के चलने पर कोई वृक्ष कांपता है। तत्पश्चात हे पार्वती, तुम्हें गिरिराज साथियों सहित घने जंगल में ढूंढने निकले।

तुम भी सखी के साथ भयानक जंगल में घूमती हुई वन में एक नदी के तट पर एक गुफा में पहुंची। उस गुफा में तुम आनी सखी के साथ प्रवेश कर गईं। जहां तुम अन्न जल का त्याग करके बालू का लिंग बनाकर मेरी आराधना करती रहीं। उस समय पर भाद्रपद मास की हस्त नक्षत्र युक्त तृतीया के दिन तुमने मेरा विधि विधान से पूजन किया तथा रात्रि को गीत गायन करते हुए जागरण किया। तुम्हारे उस महाव्रत के प्रभाव से मेरा आसन डोलने लगा। मैं उसी स्थान पर आ गया, जहां तुम और तुम्हारी सखी दोनों थीं। मैंने आकर तुमसे कहा हे वरानने, मैं तुमसे प्रसन्न हूं, फिर तुम मुझसे वरदान मांग। तब तुमने कहा कि हे देव, यदि आप मुझसे प्रसन्न हैं तो आप महादेवजी ही मेरे पति हों। मैं ‘तथास्तु’ ऐसा कहकर कैलाश पर्वत को चला गया और तुमने प्रभात होते ही मेरी उस प्रतिमा को विसर्जित क दिया।तुमने वहां अपनी सखी सहित व्रत का पारायण किया। इतने में तुम्हारे पिता हिमवान भी तुम्हें ढूंढते ढूंढते उसी घने वन में आ पहुंचे। उस समय उन्होंने नदी के तट पर दो कन्याओं को देखा तो ये तुम्हारे पास आ गए और तुम्हें हृदय से लगाकर रोने लगे। बोले, बेटी तुम इस सिंह व्याघ्रादि युक्त घने जंगल में क्यों चली आई?

तुमने कहा हे पिता, मैंने पहले ही अपना शरीर शंकरजी को समर्पित कर दिया था, लेकिन आपने नारदजी को कुछ और बोल दिया इसलिए मैं महल से चली आई। ऐसा सुनकर हिमवान ने तुमसे कहा कि मैं तुम्हारी इच्छा के विरुद्ध यह कार्य नहीं करूंगा। तब वे तुम्हें लेकर घर को आए और तुम्हारा विवाह मेरे साथ कर दिया।उसी व्रत के प्रभाव से तुमको मेरा अर्द्धासन प्राप्त हुआ है। इस व्रतराज को मैंने अभी तक किसी के सम्मुख वर्णन नहीं किया है। हे देवी! अब मैं तुम्हें यह बताता हूं कि इस व्रत का यह नाम क्यों पड़ा? तुमको सखी हरण करके ले गई थी, इसलिए हरतालिका नाम पड़ा।

01:28 am | Admin


Comments


Recommend

Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

Maa Bamleshwari Devi Dongargarh

Bamleshwari Devi , Dongargarh

मां बमलेश्वरी देवी डोंगरगढ़ डोंगरगढ़ छत्तीसगढ़ राज्य में राजनांदगांव जिले का एक शहर और नगर पालिका है तथा माँ बमलेश्वरी मंदिर के लिए प...

0
Jd civils,Chhattisgarh, current affairs ,cgpsc preparation ,Current affairs in Hindi ,Online exam for cgpsc

India vs Australia T20 Match Raipur Ticket Full Information

India vs Australia T20 Match Raipur Ticket Full Information

india vs Australia t20 match raipur ticket full information Most anticipated India vs Australia T20 match  छत्तीसगढ़ की राजधानी Raipur में होने वाला है। As Fans इन क्रिकेट दिग्गजों के बीच मुकाबले का बेसब्...

0

Subscribe to our newsletter